नर्मदा पवित्र सर्वदा अभियान 

Scn news share

नर्मदा पवित्र सर्वदा अभियान के अंतर्गत गत 6 जुलाई को होशंगाबाद जिले में नर्मदा नदी के तटवर्ती क्षेत्रो में, राइपेरियन जोन में समाज के सभी वर्गो द्वारा लगभग 64 लाख वनस्पति एवं फलदार पौधों का रोपण किया गया था। इसके पूर्व 28 मई को मां से मनुहार कार्यक्रम का आयोजन सभी नर्मदा तट क्षेत्रो में किया गया था। इसके पश्चात 4 जून को लगभग 8 टन विभिन्न प्रजातियो के बीजो का रोपण तटवर्ती क्षेत्रो में किया गया था। मां नर्मदा के तट क्षेत्र में रोपे गये 8 टन बीज अर्थात लगभग 2 करोड़ बीजो मे से लगभग 25 प्रतिशत अंकुरण हुआ है और ये बीज पौधे बनने लगे है। बीज पौधो के रूप में परिवर्तित हो रहे है। नर्मदापुरम संभाग के कमिश्नर श्री उमाकांत उमराव ने सभी नागरिकों, ग्रामीण जनों, नर्मदा परिवार के सदस्यों, सभी नोडल अधिकारियो एवं ग्रामीणों व स्वयंसेवी संस्थाओं से कहा कि रोपित बीजो से अंकुरित हुए पौधों की रक्षा करना हमारा प्रमुख दायित्व होना चाहिए ताकि मां नर्मदा की पवित्रता सदा बनी रहे। उल्लेखनीय है कि इसके पूर्व रोपे गये बीज एवं पौधो की सुरक्षा हेतु 6 अगस्त को प्रकृति रक्षा बंधन उत्सव का आयोजन किया गया था जिसमें सभी लोगो ने पौधों को रक्षा सूत्र बांधकर आजीवन उसकी देखरेख करने एवं सुरक्षा करने का संकल्प लिया था।
कमिश्नर श्री उमाकांत उमराव ने सभी लोगो से कहा है कि वे अंकुरित हुए पौधों में पर्याप्त सिंचाई की व्यवस्था सुनिश्चित करें ताकि पौधे जीवित रह सके। इसके लिये उन्होने नर्मदा नदी के तट क्षेत्र से लगे किसानों को सिंचाई हेतु तैयार करने के निर्देश दिये। कमिश्नर ने कहा कि इसके लिये श्रमदान भी किया जाये। ग्राम पंचायतें भी सिंचाई कार्य में आवश्यक सहयोग प्रदान करे। सिंचाई हेतु यदि आवश्यकता है तो मोटर भी खरीदा जाए। समाज के सभी व्यक्तियो का सहयोग लेकर मोटर खरीदी जा सकती है। कमिश्नर ने अपेक्षा की है कि प्रत्येक विकासखंड से सिंचाई हेतु एक मोटर समाज सेवियों के सहयोग से क्रय की जाए। मोटर का उपयोग करने के पश्चात मोटर मालिक को मोटर लौटा दी जाए। उल्लेखनीय है कि अनुविभागीय राजस्व अधिकारी पिपरिया श्री मदन सिंह रघुवंशी ने स्वयं एवं ग्राम सुरेला किशोर के ग्रामीणों के सहयोग से एक मोटर खरीदी है इस मोटर का उपयोग सुरेला किशोर के तट क्षेत्र में लगे पौधों की सिंचाई में उपयोग किया जा रहा है।
कमिश्नर श्री उमराव ने कहा कि हम सभी लोगो ने मां नर्मदा की पवित्रता अक्षुण बनाये रखने एवं मां नर्मदा के जल को प्रदूषण एवं गंदगी से मुक्त करने तथा तटवर्ती क्षेत्रो में लगाए गये पौधों की आजीवन देखरेख करने एवं उसकी सुरक्षा करने का संकल्प लिया था। अब समय आ गया कि हम अपने संकल्प को कर्तव्य में परिवर्तित करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *