पटवारी परीक्षा फेल, सर्वर डाउन , मचा हंगामा

Share Scn News India

मध्यप्रदेश की सबसे बड़ी आॅनलाइन पटवारी परीक्षा पहले ही दिन फेल हो गई। सर्वर ठप होने के कारण 18 हजार उम्मीदवार परीक्षा नहीं दे पाए। गुस्साए उम्मीदवारों ने हंगामा किया। भोपाल में एक सेंटर पर पथराव भी हुआ। हालात यह थे कि उम्मीदवारों को सही जवाब देने वाला भी कोई नहीं था। प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड / PEB के टोल फ्री नंबर से भी कोई जानकारी नहीं मिल रही थी। उम्मीदवार कई शहरों से किराया खर्चा करके आए थे। पीईबी का कहना है कि अब 29 दिसम्बर के बाद बचे हुए उम्मीदवारों की परीक्षा होगी।

प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड के एग्जाम कंट्रोलर एसकेएस भदौरिया ने कहा कि पटवारी की पहली परीक्षा में 8000 आवेदक शामिल हो पाए, बाकी की परीक्षा नहीं हो पाई। अब इन आवेदकों की परीक्षा 29 दिसंबर के बाद होगी, लेकिन इसकी तारीख अभी तय नहीं है। पूरे प्रदेश के 86 सेंटर्स में 26 हजार आवेदकों को शामिल होना था। करीब 18 हजार का दोबारा एग्जाम होगा। एग्जाम कराने वाली कंपनी टीसीएस को ब्लैकलिस्टेड किया जा सकता है।
ऑनलाइन परीक्षा में प्रवेश के लिए हर उम्मीदवार की बायोमेट्रिक मिलान और पहचान दर्ज करने के निर्देश केंद्रों को दिए गए हैं। बगैर आधार कार्ड और फिंगर प्रिंट मैचिंग के परीक्षा केंद्र में प्रवेश नहीं दिया जाएगा लेकिन एक परीक्षार्थी को आधार लिंक कराने के बाद रजिस्ट्रेशन कराने में करीब 15 से 20 मिनट का वक्त लगा, जिससे बड़ी संख्या में छात्र केंद्रों के बाहर ही खड़े रह गए।
भोपाल के एक केंद्र पर सर्वर डाउन होने से परीक्षार्थी आक्रोशित हो गए। इसके बाद उन्होंने हंगामा करते हुए पत्थरबाजी की। छात्रों का कहना है कि कई जिलों से युवा यहां पहुंचे हैं, ऐसे में सुबह 9 बजे शुरू होने वाली परीक्षा अब भी शुरू नहीं हो पाई है। कोई भी अधिकारी इस बारे में कुछ नहीं बता रहा है, इससे वे और ज्यादा आक्रोशित हैं। जबलपुर के टेक्नीकल इंजीनियरिंग कॉलेज और ग्लोबल कॉलेज के बाहर विवाद की स्थिति बन गई। जब 9 बजे परीक्षा शुरू नहीं हुई तो छात्रों ने हंगामा शुरू कर दिया।
शिक्षा मंत्री दीपक जोशी ने कहा कि तकनीकी समस्या की वजह से ऐसी स्थिति बनी है। आने वाले समय में निजी कंपनी की जगह खुद की परीक्षाएं करवाएंगे। व्यवस्था बनाने के लिए केंद्रों पर मौजूद अधिकारी तेजी के साथ काम कर रहे हैं। परीक्षार्थियों के आक्रोशित होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह स्वाभाविक है, लेकिन सब ठीक करने का प्रयास किया जा रहा है।
रिकॉर्ड तोड़ आवेदनों के चलते चर्चित हुई पटवारी भर्ती परीक्षा 29 दिसंबर तक लगातार चलेगी। कुल 9 हजार 235 पदों के लिए परीक्षा में करीब 10 लाख 20 हजार उम्मीदवार शामिल होंगे। जिनमें पीएचडी, एमबीए सहित इंजीनियरिंग के छात्र शामिल हैं। परीक्षा के लिए प्रदेश में कुल 85 केंद्र बनाए गए हैं।
प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) के मुताबिक परीक्षा ऑनलाइन होगी। उपलब्ध इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिहाज से उम्मीदवारों को बैच में बांट कर परीक्षा करवाई जा रही है। हर दिन औसतन 26 हजार उम्मीदवार पूरे प्रदेश से परीक्षा में शामिल होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!