काश….! हमारा भी होता पक्का आशियाना

Share Scn News India

SCN NEWS जबेरा से नितेश पटेल की रिपोर्ट

लापरवाही के चलते सर्वे के दौरान छूट गए 300 से ज्यादा परिवार

ग्राम पंचायत नोहटा में अभी भी 300 से ज्यादा परिवारों के पास नहीं है पक्के आवास

नोहटा- प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत जनपद पंचायत जबेरा की ग्राम पंचायत नोहटा में पिछली पंचवर्षीय योजना में सर्वे कराया गया था| जो लापरवाही की भेंट चढ़ा और उसका खामियाजा आज गरीब परिवारों के लिए भुगतना पड़ रहा है|, इस विषय में ग्रामीण शीलरानी पाल से बात की गई तो उन्होंने बताया कि कई बार आवास योजना के लिए मैंने पंचायत में आवेदन जमा किया था. सरकार के द्वारा सर्वे भी किया गया लेकिन आज भी बूढ़ी महिला आवास योजना के लिए इंतजार कर रही है, नोहटा पंचायत में अभी भी ऐसे ग्रामीण लोग हैं जिनके यहां पर पक्के मकान नहीं हैं घास फूस मिट्टी खप्पर से बने हुए मकान मे रहने को मजबूर ग्रामीण सरकार की योजनाओं का प्रलोभन तो दिया जाता है लेकिन इनके पास योजनाओं का लाभ नहीं पहुंच पाता| विदित हो कि नोहटा पंचायत में 2011 की सर्वे के अनुसार 500 पीएम आवास स्वीकृत किए गए थे |जिसमें से प्रथम सूची में 105 नाम आए थे| सूची के अनुसार क्रमांक 1 से क्रमांक 105 तक के परिवारों का आवास निर्माण कार्य अक्टूबर 2017 में पूर्ण रुप से किया गया| बाकी 395 नाम की लिस्ट दूसरी एवं तीसरी सूची में आएगी जिनका निर्माण होगा|

नोहटा सरपंच का कहना है
इन 500 परिवारों के अलावा अभी 300 से अधिक परिवार हमारी पंचायत में ऐसे हैं जो झुग्गी झोपड़ियों में निवास करते हैं जिनके पास रहने के लिए आवास नहीं है और उन्हें बहुत ही तकलीफों का सामना करना पड़ रहा है| मैं चाहता हूं कि मेरे ग्राम के प्रत्येक गरीब परिवार का पक्का आवास हो| इसी बात को मैं जनपद एवं जिला पंचायत में रखूंगा| और प्रयत्न करुंगा कि मेरे बाकी के बचे गरीब आवास हीन परिवारों के लिए आवास की योजना का लाभ दिया जाए| ग्राम गाडाघाट में एक भी परिवार को आवास योजना का लाभ नहीं दिया गया है मैं इस विषय में भी अपने उच्च अधिकारियों से संपर्क करूंगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!