लोकसभा में ट्रिपल तलाक बिल पेश, ओवैसी ने जताया विरोध

Scn news share


संसद में चल रहे गतिरोध के बाद गुरुवार को सरकार ने लोकसभा में ट्रिपल तलाक पर बिल पेश किया। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्रिपल तलाक बिल क सदन में पेश कर दिया है। बिल के पेश होने के बाद इस पर बहस शुरू हुई। ट्रिपल तलाक बिल में तीन साल की सजा का प्रावधान है जिसको लेकर AIMIM के नेता असदुद्दीन ओवैसी विरोध करते हुए कहा कि ये बिल मूल अधिकारों का उल्‍लंघन है। इससे पहले बीजेपी ने अपने सांसदों को तीन पंक्ति का व्हिप जारी किया था और उन्‍हें गुरुवार को ट्रिपल तलाक के संबंध में विधेयक पेश करने के समय संसद में उपस्थित रहने के लिए कहा गया है।
वही , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्रिपल तलाक बिल को संसद में सर्वसम्मति के साथ पास करने की अपील की है। विपक्ष नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी तीन तलाक को गैरकानूनी बताते हुए उस पर कानून बनाए जाने का समर्थन किया।

सत्र से पहले बीजेपी संसदीय दल की बैठक की थी। सदन में पेश हुए बिल के मुताबिक किसी भी तरीके से एक बार में दिया गया तीन तलाक अवैध तथा शून्य होगा और उसके लिए पति को तीन साल की सजा होगी। केंद्रीय कैबिनेट ने बिल को मंजूरी दे दी है।

वही , इस बीच आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर इस सम्बन्ध में संसद में विधेयक पेश नहीं करने की अपील की थी। बोर्ड के अध्यक्ष राबे हसन नदवी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लिखे पत्र में कहा है कि संसद में तीन तलाक के सम्बन्ध में विधेयक पेश नहीं किया जाये। विधेयक पेश करना यदि जरुरी ही है तो पेश करने से पहले इस बारे में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के साथ ही मुस्लिम विद्वानों से राय मशविरा कर लिया जाये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *