एकात्म यात्रा के लिए अधिकारियों को सौंपी जिम्मेदारी जिले में 16 से 18 जनवरी तक यात्रा करेगी भ्रमण 19 जनवरी को हरदा के लिए होगी रवाना

Scn news share

बैतूल,- आदिगुरू शंकराचार्यजी की प्रतिमा निर्माण हेतु धातु संग्रहण एवं जन जागरण के उद्देश्य से जिले में 16 से 19 जनवरी के बीच भ्रमण करने वाली एकात्म यात्रा के सुव्यवस्थित संचालन हेतु कलेक्टर श्री शशांक मिश्र ने अधिकारियों को जवाबदारी सौंपी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार एकात्म यात्रा के प्रचार-प्रसार हेतु जिले के प्रत्येक ग्राम एवं नगरीय क्षेत्र के प्रत्येक वार्डों में 15 जनवरी से भारत माता की आरती प्रारंभ कर एकात्म यात्रा का व्यापक प्रचार-प्रसार करने का दायित्व समस्त जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों एवं समस्त मुख्य नगरपालिका अधिकारियों/ नगर पंचायत अधिकारियों को सौंपा गया है।
स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं अपने-अपने क्षेत्र के नागरिकों के साथ बैनर सहित उपयात्रा निकालकर कार्यक्रम स्थल पर पहुंचाने का कार्य जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं समस्त जनपदों के सीईओ एवं नगरपालिका अधिकारी करेंगे।
एकात्म यात्रा के जनसंवाद कार्यक्रम स्थल पर विभिन्न मुख्य मार्गों से आने वाली उपयात्राओं के नेतृत्व हेतु व्यक्तियों का चिन्हांकन संबंधित जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं मुख्य नगरपालिका अधिकारी द्वारा किया जाएगा।
जिला क्रीड़ा अधिकारी लगभग 100 मीटर लंबा एवं 6 फीट चौड़ा हस्ताक्षर फ्लेक्स तैयार कर यात्रा के दौरान हस्ताक्षर करवाते हुए व्यवस्थित रखेंगे। यात्रा के जनसंवाद कार्यक्रम के दौरान मंच पर कन्या पूजन एवं वृद्ध जन सम्मान की व्यवस्था के उत्तरदायी संबंधी सीईओ जनपद, जन अभियान परिषद् की जिला समन्वयक एवं नेहरू युवा केन्द्र के जिला समन्वयक होंगे। यात्रा की संपूर्ण स्वागत व्यवस्था की जवाबदारी संबंधित सीईओ जनपद, जन अभियान परिषद् एवं गायत्री परिवार के समन्वयक श्री कैलाश वर्मा को दी गई है। यात्रा के दौरान निर्धारित कार्यक्रम स्थलों पर सांस्कृतिक कार्यक्रम, भजन, रामसत्ता इत्यादि आयोजित करने की व्यवस्था सहायक आयुक्त आदिवासी विकास, नेहरू युवा केन्द्र एवं जिला शिक्षा अधिकारी देखेंगे।
यात्रा के कोर ग्रुप के भोजन, विश्राम एवं आमजन को प्रसाद वितरण का कार्य संबंधित जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं नगरीय क्षेत्रों में संबंधित नगर पालिका अधिकारी करवाएंगे। यात्रा के दौरान पेयजल व्यवस्था की संपूर्ण जवाबदेही लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग को सौंपी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *