पन्ना बमुरहा अपहरण काण्ड का खुलासा ,

Scn news share

विकास सेन

★अपह्ता लड़की दस्तयाब।

★चार आरोपी मय बुलेरों वाहन एवं हथियारों सहित गिरफ्तार।
★मुख्य आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर।

पन्ना के अमानगंज थाना अंगर्तत आने वाले ग्राम बमुरहा मे हुये लडकी के अपहरण का आज पन्ना पुलिस ने खुलासा किया है। दरासल दिनांक 27 जनवरी 2018 को थाना अमानगंज के डायल 100 वाहन क्रमांक-05 एम0पी0 04 पीए, 6064 में एपीसी सुभाष चन्द्र, 10 वी वाहिनी बी कम्पनी, प्रआर 59 प्रकाश मण्डल, थाना अमानगंज एवं पायलेट शराफत खान एफआरव्ही वाहन में डियूटी पर उपस्थित थे। रात्रि करीब लगभग 11 बजे मोबाइल नम्बर से इवेन्ट प्राप्त होने पर कि एक व्यक्ति शराब पीकर परेशान कर रहा है, तब डायल 100 वाहन में डियूटी पर तैनात स्टाफ मय एफआरवही वाहन के ग्राम टाई महेबा तिराहा पहुचे, तो वहां एक आदमी जमीन पर पड़ा था। जब स्टाफ द्वारा उस व्यक्ति को उठाने लगे तब जमीन पर पडे बदमाश ने प्रआर के सीने में कट्टा अडाते हुए अन्य 04 बदमाशों ने सभी कर्मचारियों को घेर कर कट्टा लगाकर बंधक बनाकर एक अन्य गाड़ी में डालकर आरोपी देवराज सिंह एवं अन्य द्वारा डायल 100 वाहन का उपयोग करते हुए ग्राम बमुरहा में जाकर लड़की का अपहरण करते हुए वापस ग्राम टाई आकर डायल 100 वाहन को छोड़कर कर्मचारियों की जेब से पर्स,रूपये-पैसे एवं आईडी आदि छीनते हुए पूर्व से रखी गाड़ी में लड़की को लेकर सभी बदमाश फरार हो गये। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस अधीक्षक स्वयं घटना को गम्भीरता से लेते हुए तत्काल मौके पर पहुंॅच कर क्षेत्र की नाकाबंदी एवं फरार अपराधियों की पतासाजी सर्चिग हेतु अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) गुनौर को निर्देशन में प्रथक-प्रथक विशेष टीम बनायी जाकर बदमाशों की पतारसी, गिरफ्तारी हेतु सर्चिंग प्रारम्भ की गयी। आरोपियों की गिरफ्तारी पर पुलिस अधीक्षक, जिला पन्ना द्वारा दस हजार रूपये का ईनाम घोषित किया गया। तद्ोपरांत पुलिस महानिरीक्षक, सागर जोन सागर द्वारा घटना की संवेदनशीलता को दृष्टितगत रखते हुए पच्चीस हजार रूपये का ईनाम घोषित किया गया है तथा प्रकरण को चिन्हित किया गया है।
पुलिस की विवेचना, मुखबिरी एवं तकनीकी जानकारी के आधार पर सर्वप्रथम आरोपी धर्मेन्द्र सिंह पिता प्रेम सिंह राजपूत, निवासी कुलवाकला थाना हटा जिला दमोह को पुलिस द्वारा तत्यपरता से कब्जे में लिया जाकर घटना में प्रयुक्त मोबाईल, एक 315 बोर का कट्टा एवं 04 जिंदा कारतूस जप्त किये गये। आरोपी धर्मेन्द्र सिंह से पुलिस द्वारा गहन रूप से पूछताछ कर प्रथम दृष्टया यह तथ्य प्रकाश में आया कि इन बदमाशों द्वारा पूर्व में दो बार इस घटना को कारित करने का असफल प्रयास किया गया, प्रथमवार दिनांक 18 जनवरी 2018 थाना गुनौर के डायल 100 वाहन को इनके द्वारा सूचना दी गयी किन्तु डायल 100 वाहन के अन्य इवेन्ट पर जाने से वाहन 108 पहुंॅचने के कारण आरोपियो का प्रयास असफल रहा, द्वितीय प्रयास घटना दिनांक 27 जनवरी 2018 को थाना पवई डायल 100 वाहन को इनके द्वारा घटना की सूचना दी गयी किन्तु डायल 100 ड्युटी के कर्मचारी जिस नं0 से फोन किया गया था उस कालर व्यक्ति को जानते थे, दूसरे नं0 काल आने एवं कालर व्यक्ति से बात करने पर संदेह होने से आरोपियो के द्वारा मोबाईल बंद कर दिया इस प्रकार आरोपियो का यह प्रयास भी असफल रहा। आरोपी से पूछताछ पर यह भी तथ्य प्रकाष में आया कि पूर्व में आरोपी देवराज सिंह द्वारा आरोपियों को पचास-पचास हजार रूपये का कर्जा दिया गया जो डेढ लाख रूपय बाद में देने की बात तय थी। बदमाशों द्वारा पुलिस की वर्दी छोटू टेलर, पथरिया, जिला दमोह से तथा पथरिया में भूमि मोबाईल के सामने की दुकान से खाकी वर्दी का कपड़ा एक हजार रूपये में खरीदा गया था। तथा बजरिया में आनंद खुराना की दुकान से पुलिस जर्किन तथा पेट्रोल पम्प हटा के सामने की दुकान से नायलोन की रस्सी खरीदी गयी थी। इस घटना में पांॅच आरोपी शामिल थे तथा इस घटना में अन्य व्यक्तियों के भी नाम शामिल होने के तथ्य प्रकाश में आये है।

प्रकरण में विषेष दल द्वारा आरोपी रक्कू उर्फ राजेश रैकवार पिता भवानी रैकवार, उम्र 29 वर्ष, निवासी लखरौनी, आरोपी राजेश सिंह पिता खुमान सिंह, उम्र 28 वर्ष, निवासी टीला, थाना पथरिया एवं आरोपी हेमराज कुर्मी पिता मुरलीधर कुर्मी, उम्र 24 वर्ष, निवासी मिर्जापुर, थाना पथरिया को गिरफ्तार कर इनके कब्जे से घटना में प्रयुक्त बुलोरों वाहन एमपी 35ए सीए-2182 तथा एक पिस्टल, एक 315 बोर का कट्टा एवं 07 जिन्दा कारतूस, मोबाईल फोन एवं अन्य प्रयुक्त सामग्री जप्त की गयी है। पुलिस अधीक्षक पन्ना का कहना है कि आरोपियो के द्वारा उक्त दिनांक को घटना कारित कर अगवा लड़की को अपने वाहन से दमोह, सागर, भोपाल, इंदौर, गुना होते हुए शिवपुरी पहंुॅचे जहांॅ से अन्य आरोपी वाहन से वापस आ गये तथा आरोपी देवराज सिंह लड़की को लेकर आगरा, दिल्ली तरफ जाकर वापस टीकमगढ़ लौटा आरोपियो पर पुलिस पार्टी, अन्य जिले तथा अन्य प्रदेश की पुलिस द्वारा लगातार सर्चिग की जा रही थी। जिस पर दिनांक 31 जनवरी 2018 को प्रातः पुलिस द्वारा अपहत लड्की को सकुशल दस्तयाब करने में महत्वपूर्ण सफलता प्राप्त की गयी इस घटना का मास्टर माईंड और मुख्य आरोपी मौके से फरार हो गया जिसकी पुलिस अभी भी तलास कर रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *