खतरे वाली गर्भवती माताओं से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप मोजेस ने की गृह भेंट“

Share Scn News India

बैतूल – मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप मोजेस द्वारा विकासखण्ड आमला के ग्राम बोथिया में भ्रमण कर खतरे वाली गर्भवती माता श्रीमति मुन्दो पति राजू से भेंट की गई, मुन्दो एनीमिया से पीडि़त है मुन्दो एवं उसके परिजनों को मुन्दो के खान-पान विशेषकर हरी सब्जिया, लौह तत्व युक्त भोजन, आयरन फोलिक एसिड की गोलियांें का नियमित सेवन तथा पौष्टिक आहार खाने हेतु समझाईश दी गई। मुन्दो को आयरन सुक्रोज इंजेक्शन हीमोग्लोबिन स्तर में सुधार हेतु पूर्व में दिये जा चुके हैं। वर्तमान में मुन्दो के हीमोग्लोबिन स्तर में सुधार है। मुन्दो की सास एवं पति को मुन्दो का शासकीय अस्पताल में प्रसव करवाने तथा प्रसव की संभावित तिथि से 1-2 दिन पूर्व प्रसव हेतु अस्पताल में भर्ती होने की समझाईश दी गई।
ग्राम साईखेंड़ा में खतरे वाली गर्भवती माता गीता/मदन एनीमिया से पीडि़त है जिन्हें आयरन फोलिक एसिड की गोलियांे का नियमित सेवन, हरी सब्जियां, पौष्टिक आहार, नियमित जांच एवं संस्थागत प्रसव हेतु समझाईश दी गई।
ग्राम मिलानपुर में खतरे वाली गर्भवती माता वंदना/संपत से भेंट की गई। वंदना को नियमित हीमोग्लोबिन की जांच करवाने एवं लौह तत्व युक्त आहार जैसे हरी सब्जियां, मौसमी फल, पौषण आहार लेने हेतु समझाईश दी गई।
ग्राम बैतूल बाजार में खतरे वाली गर्भवती माता पूनम/राजकुमार एवं ग्राम बडोरा में पूजा/शंकर मालवीय से भेंट की गई तथा पूनम से 15 तारीख को जिला चिकित्सालय बैतूल में आकर चिकित्सक से जांच करवाने तथा जिला चिकित्सालय में प्रसव करवाने हेतु सलाह दी गई। महिला का वजन एवं रक्तचाप कम होने के कारण नियमित जांच, उपचार, दवाईयों का सेवन, आयरन फोलिक एसिड गोलियों का नियमित सेवन तथा अतिरिक्त भोजन खाने हेतु समझाईश दी गई। संस्थागत प्रसव करवाने एवं जन्म अंतराल के अस्थाई साधन प्रसव के पश्चात् उपयोग करने एवं सीमित परिवार का महत्व समझाते हुये 02 बच्चों के उपरांत नसबंदी ऑपरेशन करवाने की सलाह दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!