मुख्यमंत्री का किसानों को संदेश

Scn news india share


सागर संभाग क्षेत्र में 26 मार्च से समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी शुरू होगी। यह 26 मई तक चलेगी। इस वर्ष गेहूं खरीदी हेतु 1735 रूपये प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य तय किया गया है। गेहूं बेचने हेतु सागर जिले में 57 हजार 248 किसानों ने, छतरपुर जिले में 57 हजार 368 किसानों ने, टीकमगढ जिले में 46 हजार 464 किसानों ने, दमोह जिले में 28 हजार 549 किसानों ने एवं पन्ना जिले में 23 हजार 036 किसानों ने पंजीयन कराया है। जिसमें से सागर जिले में 96.37 प्रतिशत, छतरपुर जिले में 99.90 प्रतिशत, टीकमगढ़ जिले में शत-प्रतिशत, दमोह जिले में 82.53 प्रतिशत एवं पन्ना जिले में 98.49 प्रतिशत किसानों के पंजीयन सत्यापित किये जा चुके हैं। संभाग के 64 शासकीय गोदामों में गेहूं उपार्जन केन्द्र खोले गये हैं। बताया गया कि रबी उपार्जन 2018-19 हेतु सागर जिले में 20 गोदामों (29 समितियां संलग्न), छतरपुर जिले में 22 गोदामों (22 समितियां संलग्न), टीकमगढ़ जिले में 10 गोदामों (22 समितियां संलग्न), दमोह जिले में 02 गोदामों (02 समितियां संलग्न) एवं पन्ना जिले में 10 गोदामों (12 समितियां संलग्न) में गेहूं उपार्जन केन्द्र खोले गये हैं।

मुख्यमंत्री कृषक समृद्वि योजना के तहत 265 रू. प्रति क्विंटल अतिरिक्त दिये जायेंगे

रबी उपार्जन 2018-19 में किसानों को गेहूं के समर्थन मूल्य 1735 रूपये प्रति क्विंटल के अलावा 265 रू. प्रति क्विंटल अतिरिक्त रूप से दिये जायेंगे। यह राशि मुख्यमंत्री कृषक समृद्वि योजना के तहत दी जायेगी।

समिति स्तर से किये जायेंगे किसानों को एस.एम.एस.

रबी उपार्जन में समिति स्तर पर किसानों को एसएमएस करने की व्यवस्था की गयी है। एसएमएस करने में लघु एवं सीमांत किसानों को प्राथमिकता दी जायेगी। एसएमएस इस प्रकार शेड्यूल किये जायेंगे कि एक गांव के लघु एवं सीमांत किसानों को इस प्रकार बुलाया जायेगा कि यदि जरूरी हो तो वे आपस में समन्वय कर समेकित वाहनों में अपनी उपज ला सकें। किसानों को तिथियों के विकल्प दिये जायेंगे, जिससे वे सुविधानुसार खरीदी केन्द्र आ सकेंगे। किसी भी उपार्जन केन्द्र में भीड़ न लगे, इस हेतु एसएमएस किये जाने वाले किसानों की संख्या 20 तक ही सीमित रखी जायेगी। किसानों की सुविधा एवं उपार्जन में गति लाने हेतु उपार्जन व्यवस्था में शेड्यूल एसएमएस की तिथि में परिवर्तन एवं शेड्यूल एसएमएस समितिस्तर पर भेजे जा सकेंगे। किसानों को एसएमएस खरीदी तिथि से न्यूनतम 4 दिन पहले किये जायेंगे, जिससे किसान अपनी तैयारी करके आ सकें। किसानों को नियत तिथि में ही खरीदी केन्द्र आने के लिए प्रेरित किया जायेगा, जिससे उन्हें उपज की तौल कराने में सुविधा हो।

खरीदे जा रहे गेहूं की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाये

कमिश्नर श्री आशुतोष अवस्थी ने सागर संभाग के सभी जिलों के कलेक्टर्स को निर्देशित किया है कि समर्थन मूल्य पर उपार्जन केन्द्र में खरीदे जा रहे गेहूं की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाये। गेहूं उपार्जन व किसानों को भुगतान व्यवस्था में किसी भी प्रकार की कोई भी कमी न रहे। उन्होंने निर्देश दिये हैं कि उपार्जन केन्द्र की स्थापना सुगम मार्ग पर हो तथा किसानों को बैठने हेतु छायादार स्थान, पीने हेतु साफ पानी, वाहन खड़ा करने एवं स्कंध/बारदाना रखने की पर्याप्त व्यवस्थायें हों। एसएमएस शेड्यूल के अनुसार नियमित रूप से किसानों को निर्धारित समय में एसएमएस कराया जाये। भारतीय खाद्य निगम को प्राथमिकता से एवं पहले दिन से ही स्टॉक सौपने की कार्यवाही सुनिश्चित की जाये। उपार्जित स्टॉक का समय पर परिवहन एवं संग्रहण कराना सुनिश्चित किया जाये। परिवहन तिथि से तीन दिन के अन्दर स्वीकृति पत्रक, डिपॉजिट फॉर्म एवं डब्ल्यूएचआर अनिवार्य रूप से जारी करायें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!