आगामी दो वर्षों में मध्यप्रदेश में सिंचाईं परियोजना हेतु 60 हजार करोड़ की मदद दी जाएगी- केन्द्रीय मंत्री श्री नितिन गडकरी

Share Scn News India

जन्म से पहले एवं अंतिम समय तक शासन जनता के साथ खड़ी है- मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान

मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं केन्द्रीय मंत्री श्री गडकरी ने तेंदूपत्ता संग्राहकों को 6 करोड़ 49 लाख रूपए का बोनस वितरण किया

मुख्यमंत्री ने तीन कार्यों का लोकार्पण एवं दो कार्यों का भूमिपूजन किया

मुख्यमंत्री एवं केन्द्रीय मंत्री बैतूल में तेंदूपत्ता संग्राहक एवं असंगठित श्रमिक सम्मेलन में हुए शामिल
बैतूल,
केन्द्रीय मंत्री पोत परिवहन, सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग, जल संसाधन, नदी विकास, गंगा संरक्षण श्री नितिन गडकरी ने कहा कि मध्यप्रदेश शासन एवं मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान शोषित एवं दलित समाज के उत्थान के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। इसी से प्रदेश में सामाजिक समरसता आई है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने भी कहा था कि समाज में जो शोषित एवं गरीब हैं, वे दरिद्र नारायण के समान हैं।

उनकी सेवा नारायण की सेवा है। श्री गडकरी शुक्रवार को बैतूल जिले में आयोजित तेंदूपत्ता संग्राहकों एवं असंगठित श्रमिकों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। श्री गडकरी ने बताया कि आगामी दो वर्षों में मध्यप्रदेश में सिंचाईं परियोजना हेतु 60 हजार करोड़ रूपए की मदद दी जाएगी। पूर्व में भी प्रदेश को 25 हजार करोड़ रूपए की राशि दी गई है।

उन्होंने कहा कि अब पानी केनाल से नहीं, बल्कि पाइप लाइनों द्वारा लाया जाएगा और ड्रिप के माध्यम से किसानों के खेतों तक पहुंचाया जाएगा। इससे प्रदेश का कृषि उत्पादन तीन गुना बढ़ेगा। श्री गडकरी ने कहा कि इस देश में पैसों की कोई कमी नहीं है, तकनीक की कोई कमी नहीं है, कमी है तो बस सही दिशा की कमी है।

श्री गडकरी ने कहा कि मध्यप्रदेश में कृषि विकास दर 23 प्रतिशत है, इसकी बजाय महाराष्ट्र को हमने एक लाख करोड़ रूपए दिया, फिर भी वहां कृषि विकास दर 12 से 13 प्रतिशत् ही है। श्री गडकरी ने कहा कि संकट की इस घड़ी में हम किसानों के साथ खड़े हैं। उन्होंने बताया कि बैतूल के परसवाड़ा, रतोड़ा एवं बैतूल में सीमेंट-कांक्रीट रोड एवं मुलताई में सीमेंट-कांक्रीट रोड मंजूर किए हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी नए भारत का सपना लेकर चल रहे हैं। इसके लिए प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत आज लाखों घरों में गैस एवं चूल्हे वितरित किए हैं। जन-धन योजना में 80 हजार करोड़ आम आदमी के जमा है। किसानों को फसल बीमा में आगामी दिनों में लाभ मिलेगा।

श्री गडकरी ने कहा कि आज देश बदल रहा है। जो कार्य 48 वर्षों में नहीं हुआ, वह कार्य हमने चार वर्षांे में करके दिखाया है। आज तेंदूपत्ता संग्राहकों को जो चप्पल, साड़ी एवं पानी की कुप्पी प्रदान की जा रही है, वह प्रदेश के मुख्यमंत्री की संवेदनशीलता का परिचय है।

तेंदूपत्ता संग्राहकों एवं असंगठित श्रमिक सम्मेलन में तेंदूपत्ता संग्राहकों को वर्ष 2016 की बोनस राशि 6 करोड़ 49 लाख रूपए का वितरण केन्द्रीय मंत्री श्री गडकरी एवं मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया। बोनस राशि का वितरण ई-भुगतान के माध्यम से किया गया। इसके अतिरिक्त 62 हजार 148 तेंदूपत्ता संग्राहकों को तीन करोड़ दो लाख 40 हजार रूपए की राहत सामग्री चरण पादुका, साड़ी, पानी की बोतल आदि के माध्यम से की गई।

इससे 15229 संग्राहक लाभान्वित हुए। इस अवसर पर हरदा के तेंदूपत्ता संग्राहकों को दो करोड़ 79 लाख रूपए की बोनस का ई-भुगतान किया गया। इससे लगभग दो हजार तेंदूपत्ता संग्राहक लाभान्वित होंगे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 2050.43 लाख के तीन निर्माण कार्यों का लोकार्पण किया तथा 16798 लाख के दो कार्यों का भूमिपूजन किया।

सम्मेलन में प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने तेंदूपत्ता संग्राहकों एवं असंगठित श्रमिकों को संबोधित करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश शासन आज हर व्यक्ति के साथ जन्म से पहले एवं अंतिम समय तक उसकी मदद करने के लिए साथ में खड़ी है। उन्होंने इस अवसर पर तेंदूपत्ता संग्राहकों को चरण पादुका पहनाई। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब वर्ग के लिए जो योजनाएं बनाई गई है, वह ऐसी योजना है जो स्वयं प्रधानमंत्री के दिल के करीब है।

जो सबसे गरीब है, उनकी सेवा करना भगवान की सेवा करने के समान है। लोग नारे लगाते रहे कि गरीबी हटाओ, लेकिन गरीबी नहीं हटी। मध्यप्रदेश शासन ने गरीबों के कल्याण के लिए अलग रास्ता निकाला है। हमने गरीबों को एक रूपए किलो चावल, गेहूं एवं नमक देने का फैसला किया और उन्हें यह सामग्री दे भी रहे हैं।

प्रदेश में जितने भी गरीब हैं, वह जमीन के बिना नहीं रहेंगे, सभी पात्र गरीबों को जमीन का मालिक बनाया जाएगा तथा उसी जमीन पर उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना में पक्का आवास बनाकर दिया जाएगा। वर्ष 2022 तक सभी आवासहीनों को आवास बनाकर दे दिए जाएंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जो असंगठित श्रमिक अपना पंजीयन करा चुके हैं, उन्हें अनेक योजनाओं से लाभान्वित किया जाएगा। श्रमिकों के बच्चों की कक्षा पहली से लेकर कॉलेज तक की फीस शासन भरेगी। फीस के अभाव में बच्चों के सपनों को मरने नहीं दिया जाएगा। कोई भी बच्चा फीस के अभाव में पढ़ाई से वंचित नहीं रहेगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गर्भवती श्रमिक महिला को चार हजार रूपए की राशि दी जाएगी एवं प्रसव के पश्चात् महिला को 12 हजार रूपए की राशि दी जाएगी, ताकि वह पौष्टिक भोजन कर सके। मुख्यमंत्री ने बैतूल में कार्यरत महिला स्व सहायता समूह के कार्यों की सराहना की और बताया कि स्व सहायता समूह में 12 हजार महिलाएं कार्यरत हैं।

समूह का टर्नओवर सालाना 240 करोड़ रूपए है। हाल ही में महिला समूह ने कीरतपुर में मुर्गीदाना का कारखाना 20 करोड़ की लागत से बनाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने फैसला किया है कि महिला समूहों के लोन का 3 प्रतिशत् शासन भरेगी, ताकि महिला समूह एक आंदोलन के रूप में आगे आ सके। उन्होंने कहा कि श्रमिकों को फ्लेट रेट पर 200 रूपए प्रतिमाह बिजली बिल देना होगा।

श्रमिकों का इलाज शासकीय एवं प्राइवेट अस्पताल में नि:शुल्क किया जाएगा। यदि किसी श्रमिक की मृत्यु 60 वर्ष की आयु से पहले हो जाती है तो उसके परिजनों को 2 लाख रूपए एवं यदि श्रमिक की मृत्यु दुर्घटना में हो जाती है तो उसके परिजनों को 4 लाख रूपए की राशि दी जाएगी। इसके अलावा अंत्येष्टि पर 5 हजार रूपए की राशि दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने बताया मप्र शासन ने तेंदूपत्ता तुड़वाई 1200 रूपए से बढ़ाकर 2000 रूपए कर दी है। उन्होंने बैतूल एवं हरदा जिले के सभी विधायकगणों को निर्देश दिए कि वे श्रमिकों के लिए बनाई गई योजना की निगरानी करें। मुख्यमंत्री ने बताया कि 10 जून को किसानों को गेहूं की प्रोत्साहन राशि 265 रूपए दी जाएगी एवं 13 जून को प्रदेश के 313 ब्लाक मुख्यालयों पर श्रमिकों के हित में कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे और श्रमिकों को इस दिन लाभान्वित किया जाएगा।

इसके लिए उन्होंने हरदा एवं बैतूल कलेक्टर से आवश्यक तैयारी करने को कहा। मुख्यमंत्री ने उपस्थित लोगों से कहा कि वे अपने गांव को स्वच्छ एवं सुंदर बनाएं। बेटी को पढ़ाएं। इस अवसर पर उन्होंने सभी को संकल्प भी दिलाया और घोषणा की कि सारनी पावर प्लांट बनेगा।

बैतूल विधायक श्री हेमन्त खण्डेलवाल ने केन्द्रीय मंत्री श्री नितिन गडकरी को धन्यवाद् देते हुए कहा कि उन्होंने आमला, मुलताई, भैंसदेही मार्ग की मांग स्वीकृत की और इसके लिए 132 करोड़ रूपए की राशि मंजूर की। इसके अलावा बैतूल-इंदौर फोरलेन का सर्वे भी प्रारंभ कराया गया। जिले में पारसडोह बांध के निर्माण के लिए 500 करोड़ रूपए की राशि एवं 70 अन्य सिंचाईं योजनाएं स्वीकृत की गई। समेकित स्कूल की शुरुआत बैतूल में की गई। शासन ने पांच करोड़ रूपए पेयजल हेतु दिए। कलेक्टर श्री शशांक मिश्र ने स्वागत भाषण दिया एवं प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।

इससे पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री गडकरी एवं मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दीप प्रज्जवलन कर सम्मेलन का शुभारंभ किया तथा कन्या पूजन, वृद्धजनों का सम्मान किया। मुख्यमंत्री ने महिला तेंदूपत्ता श्रमिक श्रीमती दुर्गाबाई को दो लाख 57 हजार रूपए, श्रीमती शांति बाई को 9 हजार रूपए, श्री जुगल को 7 हजार 596 रूपए का बोनस वितरित किया तथा श्री इंतुसिंह को दो लाख रूपए की सहायता राशि प्रदान की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने हरदा की तेंदूपत्ता महिला श्रमिक श्रीमती मालती बाई को 13 हजार 866 एवं 17 हजार रूपए की राशि का बोनस वितरित किया। श्री जयसिंह राणा को वनाधिकार पत्र एवं श्रीमती सिंधु नामदेव को प्रधानमंत्री आवास के लिए 1.20 लाख रूपए की राशि का चेक वितरित किया। ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत श्रीमती रंजिता को 4.40 लाख रूपए का ऋण प्रदान किया। असंगठित महिला श्रमिक अमिता धुर्वे एवं विनती को पंजीयन प्रमाण पत्र प्रदान किया।

सम्मेलन में सांसद श्रीमती ज्योति धुर्वे, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री सूरजलाल जावलकर, विधायक बैतूल श्री हेमन्त खण्डेलवाल, विधायक आमला श्री चैतराम मानेकर, विधायक भैंसदेही श्री महेन्द्र सिंह चौहान, विधायक घोड़ाडोंगरी श्री मंगलसिंह धुर्वे, विधायक मुलताई श्री चन्द्रशेखर देशमुख, विधायक टिमरनी श्री संजय शाह, नगर पालिका अध्यक्ष श्री अलकेश आर्य, पूर्व मंत्री हरदा श्री कमल पटेल, नगर पालिका अध्यक्ष हरदा श्री सुरेन्द्र जैन, राज्य अंत्योदय समिति के सदस्य श्री जितेन्द्र कपूर, मध्यप्रदेश राज्य कौशल विकास एवं रोजगार निर्माण बोर्ड के अध्यक्ष श्री हेमन्त देशमुख सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधिगण उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!