किसानों को बैंक से दिये जा रहे कटे फटे नोट आखिर कहां से आ रहे हैं यह नोट?

Share Scn News India

रिपोर्ट- प्रद्युम्न फौजदार,छतरपुर
बड़ामलहरा । प्रायः कर सभी स्थानीय बैंक शाखाओं द्वारा किसानों को वितरित की जा रही सूखा राहत राशि में कटे फटे पांच सौ के नोट दिये जा रहे है जिससे किसानों में खासा आक्रोश पनप रहा है।
जानकारी के मुताबिक किसानों द्वारा समर्थन मूल्य पर बेचे गए गेहूं एवं गत वर्ष बेचे गए गेहूं की बोनस राशि जो जिला केन्द्रीय सहकारी बैक शाखा बड़ामलहरा में उसके बचत खाते में जमा है।

जब बचत खाते से भुगतान निकालनें किसान बैक शाखा पहुंचता है तो तीन दिन चक्कर लगाने के बाद पैसा मिल पाता हैं वह भी कटे फटे नोट जिसमें केवल पांच सौ के फटे नोट दिए जा रहे हैं ।उक्त कटेफटे नोट बैंक द्वारा वापिस नहीं किए जा रहे ग्राम बमनी सूरजपुरा कलां आदि के किसानों ने बताया कि पांच सौ के नोटों की गिड्डी में दस हजार के नोट कटे फटे निकल रहे हैं सवाल यह है ।

कि आखिर यह नोट. कहां से आ रहे हैं ।आखिर कब तक किसानो का शोषण होता रहेगा।इस सबंध मे बैंक प्रबंधन कुछ भी कहने से कतरा रहा हैं ।आखिर इसकी क्या बजह है कि बैंक के जिम्मेदार अधिकारीयों ने चुप्पी साध रखी हैं बहरहाल कुछ भी हो राशि के वितरण में किसानों के साथ हो रहे छलावे से किसान न सिर्फ गहरे अचरज में है बल्कि खासा आक्रोश भी किसानों में पनप रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!