अनेक रोगों की दवा अर्जुन(कोहा)

Share Scn News India

अमर सेन

कुम्हारी!
अर्जुन को ककुभ,धवल,सादड़ा, सादड़ो, काहू,कोहा,अर्जुन आदि नामों से जाना जाता हैं!
अर्जुन का पेड़ मध्यप्रदेश,हरियाणा, पंजाब,बंगाल,उत्त्तरप्रदेश,बिहार सहित अधिकांश राज्यों में आसानी से मिल जाता है
अर्जुन एक औषधीय पेड़ है!यह 60 से 80 फीट तक ऊँचा होता है!इसकी छाल के योग से अनेक औषधियों का निर्माण होता है!अर्जुन की छाल ह्रदय रोगों के उपचार में सबसे अचूक रामबाण इलाज है!छाल का पावडर दूध के साथ लेने पर टूटी हुई हड्डी जल्द ही जुड़ जाती है!अर्जुन की छाल का नियमित सेवन करने से हाई बीपी, बढ़ा हुआ कोलेस्‍ट्रॉल, हार्ट अटैक तथा मोटापे की घातक बीमारी तक ठीक हो जाती है।अर्जुन छाल क्षीरपाक विधि:-अर्जुन की ताजा छाल को छाया में सुखाकर चूर्ण बनाकर रख लें।250 ग्राम दूध में 250 ग्राम पानी को मिलाकर हल्की आंच पर रखे दें ओर उसमें उपरोक्त तीन ग्राम अर्जुन छाल का चूर्ण मिलाकर उबालें।जब उबलते-उबरते पानी सूखकर दूध मात्र अर्थात् आधा रह जाये तब उतार लें।पीने योग्य होने पर छानकर रोगी द्वारा पीने से सम्पूर्ण ह्रदय रोग नष्ट होते हैं और हार्ट अटैक से बचाव होता है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!