जाति प्रमाण पत्र मामले में विवादों में गिरी शाहपुर सरपंच के खिलाफ एफआईआर करने के निर्देश

Share Scn News India

~विक्रम राठौर पत्रकार चान्दु आशीष राठौर

शाहपुरा – जाति प्रमाण पत्र मामले में विवादों में गिरी शाहपुर सरपंच मंगीताबाई। के खिलाफ एफआईआर करने के निर्देश दिए गए हैं. शाहपुर एसडीएम एसके भंडारी द्वारा एसडीओपी शाहपुर को भेजे गए एक पत्र के बाद पुलिस ने इस मामले में जांच और दस्तावेजों का परीक्षण शुरु कर दिया है.
उक्त संबंध में अपीलार्थी ललित बारस्कर ने एक पत्रकार वार्ता कर बताया कि शाहपुर एसडीएम ने 26 जून को इस आशय का पत्र एसडीओपी को भेजते हुए कहा है कि मंगीताबाई के खिलाफ एफआईआर कर मुख्य प्रतिलिपि उनके कार्यालय में प्रेषित करे. एसडीएम शाहपुर ने इस आदेश के लिए अपर कलेक्टर के 31 अगस्त 2015 के आदेश को आधार बनाया है. जिसमें मांगीताबाई द्वारा फर्जी दस्तावेजों के जरिए जाति प्रमाण पत्र हाजिर करने का उल्लेख किया गया है. पत्र में उल्लेखित किया गया है कि मंगिताबाई द्वारा शाहपुर एसडीएम के सामने जाति प्रमाण पत्र के लिए जो आवेदन पेश किया गया था. उन्होंने पिता का नाम विशाल सिंह का नाम बताया था. अनुसूचित जनजाति का प्रमाण पत्र इस आधार पर जारी किया गया था, लेकिन जांच में यह गलत जानकारी देकर प्राप्त करना पाया गया है. एसडीएम ने इसी आधार पर एसडीओपी को पत्र लिखकर कार्रवाई के लिए कहा गया है. गौरतलब हो कि ललित बारस्कार द्वारा एडीएम दफ्तर में दायर की गई एक अपील पर एडीएम ने संपूर्ण मामले की जांच कर गलत पाए जाने पर नियमानुसार आपराधिक प्रकरण दर्ज कराए जाने के आदेश दिए थे. अपीलार्थी ललित बारस्कर ने बताया कि उक्त पूरे मामले में महज मंगीताबाई पर ही कार्रवाई की जा रही है. उक्त पूरे मामले में संंबंधित पटवारी, तत्कालीन एसडीएम भी दोषी है, इनके विरुद्ध भी कार्रवाई की जानी चाहिए.

उक्त संंबंध में मंगिताबाई के पति एवं जनता दल यूनाईटेड के नेता विनोद मालवीय का कहना है कि

जाति प्रमाण पत्र का प्रकरण राज्य स्तरीय छानबीन समिति में विचाराधीन है। राजनीतिक षडयंत्र के तहत मामला दर्ज कराया जा रहा है।

एस डी ओ पी निहित उपाध्याय जी का कहना है कि जाँच कर आगे की कार्यवाही शीघ्र की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!