हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद से प्रशिक्षण प्राप्त राष्ट्रीय हॉकी खिलाडी उर्मिला जाट रही 36 वर्ष खेल प्रशिक्षक*

Share Scn News India

जाट मैडम होने का मतलब सख्त अनुशासन*

*दो अर्जुन अवार्ड विजेता राष्ट्रीय महिला हाकी खिलाडी रही पीटीआई श्रीमति उर्मिला जाट अंकिता रेस्टोरेंट मे हुआ भव्य बिदाई समारोह*

तामिया – हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद से प्रशिक्षण प्राप्त महिला राष्ट्रीय स्तर की हाकी खिलाडी रही उत्कृष्ट विधालय की खेल प्रशिक्षक श्रीमति उर्मिला जाट की सेवानिवृत्ति के बाद बिदाई समारोह में सभी नगरवासियो के साथ अपनी खुशिया बांटी | राष्ट्रीय महिला हाकी खिलाडी मधु यादव की समकालीन रही सेवानिवृत्त पीटीआई उर्मिला जाट का जीवन खेल उपलब्द्धियो से भरा हुआ है | बीते हुये लम्हो की कसक साथ तो होगी इसी माहौल मे नगर के समस्त प्रबुद्धजनो और शिक्षा विभाग के स्टाफ के साथ स्थानीय अंकिता रेस्टोरेंट में बिदाई समारोह का आयोजन किया गया | अंकिता रेस्टोरेंट मे आयोजित बिदाई समारोह में कार्यक्रम के दौरान अंशुल पाल अंर्तराष्ट्रीय कराते खिलाडी आदित्य आम्रवंशी ने श्रीमति जाट की उपलब्द्धियो के सबंध मे बताया कि होशंगाबाद जिले के पिपारिया मे 12 जून 1956 को जन्मी उर्मिला जाट की माध्यमिक शिक्षा नरसिंहपुर जिले के एमएलबी स्कूल में हुई पढाई के समय से चार बार राष्ट्रीय स्तर पर हॉकी स्पर्धा मे शामिल होने के साथ ओपन स्पर्धा जबलपुर मे तीन बार अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया 1974 में अंर्तराष्ट्रीय हॉकी मैच मे रूस के मास्को के लिये चयनित हुई लेकिन उस जमाने मे अन्य कारणो से शामिल नही हो पाई 1975 से 1976 मे शिवपुरी मे हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद सरीखे शख्शियत से से प्रशिक्षण प्राप्त देश की चुनिंदा महिला हॉकी खिलाडियो मे एक उर्मिला जाट को दो बार प्रदेश का अर्जुन अवार्ड खेल उपलब्द्धियो के लिये दिया गया जबलपुर संभाग की सर्वोच्च खिलाडी का सम्मान भी इनके खाते मे आया 9 जनवरी 1982 मे शासकीय सेवा मे आने के बाद श्रीमति उर्मिला जाट 1984 तक माध्यमिक शाला उसके बाद 1986 तक कन्याखेल परिसर मे पदस्थ होने के दौरान अनेको बेहतर खिलाडियो के तैयार किया 1987 से 2000 तक खेल परिसर तामिया मे अनेको खेल प्रतिभाओ के राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर भेजा 2001 से 30 जून 2018 तक तामिया के शासकीय उत्कृष्ट विधालय मे श्रीमति उर्मिला जाट ने अपनी सेवाये दी |बिदाई समारोह के दौरान श्रीमति उर्मिला जाट ने बताया कि उनके पिता रामदयाल सिंह जाट पुलिस मे थे नरसिंहपुर पुलिस लाइन मे बच्चो को हाकी खेलते देख प्रेरणा मिली पिता ने पढाई के साथ खेल की उस जमाने मे आजादी दी जब आठवी के बाद लडकियो की शादी कर दी जाती थी उस जमाने मे लोग अपनी लडकियो को स्कूल नही भेजते थे |पिता ने आगे बढने के लिये प्रेरित किया चार भाई बहनो मे सबसे छोटी है सभी शासकीय सेवा मे है 86 साल की उम्र मे पिता आज भी गर्व महसूस करते है 36 साल से अधिक शासकीय सेवा देने के दौरान समस्त नगरवासियो के प्रति आभार जताया इस दौरान श्रीमति उर्मिला जाट के पति श्री रामसिंग जाट पुत्री दीपशिखा जाट शक्ति दुबे जिला प्रौढ शिक्षा अधिकारी पीआर त्रिपाठी एमए बेग आर आर दुबे पीटीआई श्रीमति ललिता वासनिक जितेंद्र मिश्रा शैलेष राय अनिल चौकीकर बृजेंद्र वर्मा उत्कृष्ट के लेखाधिकारी श्री महोबिया बीएल मंडराह बीएल साहू सेवानिवृत्त शिक्षिका आशेर मैडम श्रीमति आशा सिंह शिक्षक बीएल मंडराह बीके सानेर सेवानिवृत्त शिक्षक वायएस उगदे कमलकिशोर भावरकर सहित उनके समस्त परिजन और नगरवासी शामिल रहे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!