सबको लुभाता है तामिया के जंगल मे स्थित झिंगरिया वाटर फाल*

Share Scn News India

*नितिन दत्ता*

तामिया/छिंदवाडा – जिले के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल तामिया विकासखंड मे है पातालकोट गिरिजामाई मुतौर छोटा महादेव सतधारा अन्होनी गर्मपानी कुंड के अलावा पूरे तामिया मे छोटे छोटे पर्यटन स्थल है जिसमे बीते तीन सालो मे देलाखारी के पास जंगल मे स्थित झिंगरिया प्राकृतिक झरना बारहमासी होने के साथ प्रसिद्ध पिकनिक स्पॉट है | यहा बारह महिने लोग पहुंचते है |

*जिला मुख्यालय से दूरी*- 85 किमी – छिंदवाडा से भोपाल राज्यमार्ग 19 मे जिला मुख्यालय से 85 किमी दूरी पर स्थित झिंगरिया वाटर फाल जाने के लिये देलाखारी से सेहराढाना ग्राम की पक्की रोड से जाना पडता है तामिया से देलाखारी 18 किमी तथा देलाखारी से ग्राम पंचायत खापा उमरिया रोड पर 12 किमी पर वनो से आच्छादित पाटलकोट के घटलिंगा से गुजरती हुई दूधी नदी झिंगरिया प्राकृति झरने मे बदल जाती है| तामिया से 30 किमी दूरी मे स्थित झिंगरिया वाटर फाल बीते 3 साल से चर्चायो मे है यहा अनेको लोग बारह माह भर पिकनिक मनाने आते है | तामिया वन परिक्षेत्र के दहियर बीट मे आने वाला यह क्षेत्र नदी के दूसरी और देलाखारी रेंज के कपूरनाला बीट में आता है |

*भोपाल से भी नजदीक*- छिंदवाडा भोपाल राज्यमार्ग मे स्थित इस इलाके मे पहुचना आसान है भोपाल से छिंदवाडा आने पर देलाखारी की दूरी 234 किमी है पिपारिया से तामिया रोड की और आने पर देलाखारी से 12 किमी अंदर उमरिया रोड होते यहा पहुंचा जा सकता है यहा जाने के लिये निजी वाहन हो तो बेहतर है वही स्थानीय वाहन भी मिल जाते है |

*महत्व*- प्राकृतिक सौंदर्य के लिहाज से झिंगरिया का प्राकृतिक झरना बहुत ही शांत और वनो से घिरा इलाका है यहा आसपास नदी के पास जाते ही बडा मैदान और दूर दूर तक कल कल करती नदी की धारा पर्यटको का मनमोह लेती है यहा सपरिवार पहुंचे पर्यटक ओमप्रकाश मालवीय श्रीमति प्रिया मालवीय हिरदेश धुर्वे उषा धुर्वे नन्हे बच्चे झलक जय परी लीलाधर मंडराह सहित अन्य यहा पिकनिक मनाने पहुंचे श्रीमति प्रिया मालवीय ने बताया कि हम कान्हा नेशनल पार्क गये थे उससे ज्यादा यहा मजा आया पिकनिक के दौरान बच्चो ने नदी किनारे फैली मे खेलते हुये खूब घर बनाये श्रीमति उषा ने बताया कि प्रकृति की गोदमे जाना हो तो झिंगरिया सबसे शानादार जगह है |

झिंगरिया वाटर फाल लगभग चार साल पहले से ही चर्चा मे आया है इसे लोगो के सामने लाने मे पर्यटन गतिविधियो से जुडे पवन श्रीवास्तव श्रीझौंत वनरक्षक संतोष भलावी उमरिया के पूर्व वनरक्षक संजय धुर्वे ने अहम भूमिका निभाई | यहा जानकारी के अभाव मे कम ही पर्यटक जा पाते है |

*सुरक्षा के इंतजाम* – वन क्षेत्र मे स्थित होने के कारण पर्यटको के लिये कोई सुरक्षा के इंतजाम नही है वही वन विभाग द्वारा भी यहा कोई व्यवस्था नही की गई है इस क्षेत्र मे दिन मे आकर अंधेरा होने पर पास के गाव पहुच जाना जरूरी है जंगल मे होने के कारण अलसुबह और रात्री मे वन्य प्राणी यहा रहते है | वन क्षेत्र के इस इलाके मे पर्यटको के लिये जिला प्रशासन ने कोई इंतजाम नही किये है तामिया वन परिक्षेत्र के उमरिया बीट के कक्ष क्रमांक पी 126 में स्थित झिंगरिया के लिए पक्की डामर रोड़ से सौ मीटर पैदल चलकर जाना होता है। वही यहा जाने का सूचना बोर्ड नही लगा है इस झरने तक उमरिया से होकर जाना पडता है वही दूसरी और कपूरनाला वाला रास्ता सही नही है| ग्रामीण सडक योजना के तहत सिर्फ पक्की सडक है पर्यटक ग्रामीणो से पूछ कर आगे जाते है |
*सरकार के प्रयास* –पर्यटन स्थल तामिया के पर्यटन विकास के लिये बडे बडे दावे हुये लिये सरकारी प्रयास नाकाफी है झिंगरिया झरना स्थल को पिकनिक स्पॉट बनाने जिला प्रशासन और पर्यटन विभाग ने कोई प्रयास नही किये जानकारी के आधार पर ही लोग यहा घुमने आते है यहा कोई व्यवस्था नही पीने के पानी से लेकर खाने का सामान और खुद की सुरक्षा पर्यटक की होती है |

*लोगों को ये सावधानी रखनी चाहिए* – देलाखारी से उमरिया रोड पर प्रधानमंत्री सडक योजना से बनी पक्की सडक है झिंगरिया झरने के पास बहुत गहराई होने से वहा जाना खतरो से भरा है | विज्ञान सभा से जुडे कार्यकर्ता लीलाधर मंडराह बताते है कि झरने मे जहा पानी गिरता है वहा एक खटिया की रस्सी चली जाती है इससे गहराई का अंदाजा लगाया जा सकता है यहा चट्टानो मे फिसलन के साथ बच्चो को नदी किनारे जहरीले जंतुयो से सावधान रहना पडता है जंगल सटा हुआ है | दिना मे ही यहा पिकनिक मना सकते है |

*किस मौसम में जाएं* – झिंगरिया वाटर फाल बारहमासी एक सा रहता है यहा गर्मी मे पानी कम होता है ठंड और वसंत मे सर्वाधिक लोग यहा आते है तेज बारिश और बाढ की संभावना मानसून के बाद अगस्त तक रहती है | देलाखारी से यहा आने तक पक्की रोड है सिर्फ 2 सौ मीटर टहलते हुये यहा पहुंचा जा सकता है | रोड से जाते ही झरना स्थल के पहले एक हनुमान मंदिर बना हुआ है इस मैदानी क्षेत्र मे वाहन रखने के साथ पिकनिक मनायी जा सकती है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!