scn news india

मध्य प्रदेश का यूनिक और इनोवेटिव डिजिटल मीडिया

Betul

शासकीय शालाओं में 56 विद्यार्थी ने किया नीट क्वालिफाईड

Scn News India

pariksha

ब्यूरो रिपोर्ट 

  • शासकीय शालाओं में 56 विद्यार्थी ने किया नीट क्वालिफाईड
  • शिक्षकों का परिश्रम और विद्यार्थियों का प्रयास, मतलब सफलता

बैतूल -बैतूल की शासकीय शालाओं में अध्यनरत छात्र-छात्राओं को इंजीनियरिंग एवं मेडिकल कॉलेज में प्रवेश के लिए आयोजित की जाने वाली परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए कलेक्टर श्री नरेन्द्र कुमार सूर्यवंशी एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री अक्षत जैन के मार्गदर्शन में किये जा रहे प्रयासों का परिणाम है कि नीट परीक्षा में जिले के सरकारी स्कूल में अध्ययनरत 56 विद्यार्थियों ने सफलता प्राप्त की।
जिला शिक्षा अधिकारी डॉ.अनिल कुशवाहा ने बताया कि शासकीय शालाओं से शिक्षा विभागीय चार विकासखंडों के 43 एवं आ.जा.क विभागीय विकासखंडों की शालाओं से 14 इस प्रकार कुल 57 विद्यार्थियों के नीट परीक्षा में क्वालीफाई हुए है। जिले में नीट की तैयारी के साथ-साथ इन छात्र-छात्राओं को मेडिकल कॉलेज में प्रवेश के लिए समुचित मार्गदर्शन विभागीय शिक्षकों प्राचार्यों एवं अधिकारियों के द्वारा सतत रूप से प्रदान किए जाने की का कार्य सतत संचालित है। जिला कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, जिला शिक्षा अधिकारी, अन्य विभागीय अधिकारियों द्वारा सफल छात्र-छात्राओं को बधाई दी गई।

ed06dbd8 fc30 40fe ab92 d1073fef2f8f
गौरतलब है कि शिक्षकों द्वारा पूरे वर्ष शाला समय में एवं अतिरिक्त समय में बोर्ड परीक्षा की तैयारी के साथ-साथ नीट परीक्षा की तैयारी भी कराई गई एवं परीक्षा के तत्काल बाद सभी चारों विकासखण्ड मुख्यालयों में कोचिंग प्रारम्भ की गई। नीट 2024 के परिणाम आने पर जिले की शासकीय शालाओं में अध्ययनरत बच्चों को नियमित कक्षाओं के लिए कराई गई निशुल्क कोचिंग एवं गत वर्ष से जिले में इस दिशा में किए गए प्रयास और इन प्रयासों के फलस्वरूप निर्मित शैक्षिक परिवेश के सुखद परिणाम देखने को मिले।

cd743e41 f3fd 4068 836b 59a7402a17ac
डॉ.कुशवाह ने बताया कि विकासखंड मुख्यालय पर विद्यार्थियों के लिए निशुल्क कोचिंग आरंभ की गई। शासकीय शिक्षकों द्वारा इन कक्षाओं के माध्यम से कराए गए अध्यापन और विशेष तैयारी के फलस्वरूप 43 बच्चे सफल घोषित हुए हैं। बच्चों के प्राप्तांक एवं मेरिट की स्थिति के अनुसार लगभग चार से पांच छात्र-छात्राओं को शासकीय मेडिकल कॉलेज में प्रवेश मिलना संभावित है। डेंटल एवं अन्य कोर्सेस में महाविद्यालयों में अन्य बच्चों को भी प्रवेश मिलना संभावित है।

10b5ab20 2140 4631 85ee 76b2ab8c57c2
अशासकीय महाविद्यालय में ली जाने वाली फीस को ध्यान में रखते हुए कुछ बच्चों का प्रवेश छात्रवृत्ति एवं अन्य संसाधनों के आधार पर किए जाने के लिए विभागीय अधिकारियों, शिक्षकों, प्राचार्य के द्वारा सतत मार्गदर्शन प्रदान किया जा रहा है। शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय केवल कक्षा 12वीं उत्तीर्ण करने की संस्था न होकर बच्चों को इन शालाओं के विद्यार्थियों के स्वर्णिम भविष्य के लिए उनकी मंजिलों को प्राप्त करने का रास्ता बनाया जाए।