scn news india

मध्य प्रदेश का यूनिक और इनोवेटिव डिजिटल मीडिया

Betul

वन संरक्षण के लिए जल संरक्षण जरूरी है: विधायक श्री देशमुख

Scn News India

multai

ब्यूरो रिपोर्ट 

जल गंगा संवर्धन अभियान
वन संरक्षण के लिए जल संरक्षण जरूरी है: विधायक श्री देशमुख

बैतूल -प्रत्येक व्यक्ति को जल संरक्षण और पौधरोपण के महत्व को समझना आवश्यक है। हर मनुष्य का कर्तव्य है कि वह पर्यावरण संरक्षण की ओर ध्यान दे और उसे संवारे। क्योंकि पर्यावरण को संतुलित बनाए रखना है तो पौधरोपण करना जरूरी है। उक्त बातें मुलताई विधायक श्री चंद्रशेखर देशमुख ने पर्यावरण दिवस पर वायगांव में आयोजित संगोष्ठी कार्यक्रम में कही।
म.प्र. जन अभियान परिषद जिला समन्वयक श्रीमती प्रिया चौधरी ने बताया कि प्रभात पट्टन विकासखंड की ग्राम पंचायत वायगांव में जल गंगा संवर्धन अभियान अंतर्गत जल स्रोतों के संरक्षण एवं पुनर्जीवन विषय पर संगोष्ठी का आयोजन प्रस्फुटन समिति वायगाव के द्वारा पांच पांडव नामक धार्मिक स्थल पर किया गया। मुलताई विधायक देशमुख द्वारा जल स्रोतों के संरक्षण एवं पुनर्जीवन अभियान पर अपने विचार रखे एवं ग्राम में स्थित कुएं, तालाब, नदी इत्यादि के गहरीकरण, सफाई करने व घरों से व्यर्थ बहने वाले पानी के लिए सोकपिट निर्माण कर अधिक से अधिक पौधारोपण करने हेतु कहा गया। विकासखंड समन्वयक श्रीमती राधा बरोदे के मार्गदर्शन में सांकेतिक पौधरोपण किया गया एवं पिछले वर्ष रोपे गए 101 पौधों का अवलोकन अतिथियों द्वारा किया गया।
कार्यक्रम में वायगांव सरपंच श्री रामदास अहाके, बिसनुर सरपंच श्रीमती प्रियंका ठाकरे, जनपद सदस्य श्रीमती जयश्री पाटनकर, प्रस्फुटन समिति अध्यक्ष पंढरीनाथ पाटनकर, सचिव श्री भोजराज पाटनकर ने भी जल संरक्षण हेतु अपने-अपने विचार व्यक्त किए।  इसके पश्चात समरसता भोज का भी आयोजन किया गया।
एक पौधा लगाएं, पर्यावरण को प्रदूषण से बचाएं: विधायक श्रीमती उईके
घोड़ाडोंगरी विकासखंड के ग्राम बज्जर वाड़ा में सृजन सेवा समिति द्वारा घोडाडोंगरी विधायक श्रीमती गंगा सज्जन सिंह उइके, ग्राम पंचायत सरपंच श्रीमती स्नेहलता इवने की  उपस्थिति में पौधारोपण किया गया। विधायक श्रीमती उईके ने पौधारोपण को सर्वोच्च प्राथमिकता मानकर सभी से पौधरोपण करने एवं जल को बचाने के लिए ग्राम में जल संरचनाओं के संरक्षण हेतु प्रयास करने प्रेरित किया। कार्यक्रम में जन अभियान परिषद की प्रस्फुटन समिति, सीएमसीएलडीपी छात्र तथा ग्रामीण जनों की उपस्थिति रही।